Pages

18 जनवरी 2013

अन्दर क्या है ?....

एक आदमी था जो मेले में गुब्बारे बेंचकर अपनी जीवन यापन करता था | उसके पास सभी  रंग लाल, हरा, नीला, काला, पीला और पीला आदि  के गुब्बारे हुआ करते थे | जब भी उसका व्यापार धीमा पड़ता , वह एक हीलियम से भरा गुब्बारा हवा में छोड़ देता और जब बच्चे गुब्बारे को हवा में उड़ते हुए देखते तो खरीदना शुरू कर देते | इस प्रकार वो व्यापार को पुनः तेज कर लेता  था |

एक दिन जब वह गुब्बारे में हवा भर रहा था तो उसने अनुभव किया की उसके जैकेट को कोई पीछे से खींच रहा है | उसने पीछे मुड़कर देखा तो एक छोटा बच्चा पीछे खड़ा था  और उसने पूछा - अगर आप ये काला वाला गुब्ब्बारा हवा में छोड़ देंगे तो यह उड़ेगा | तब वह आदमी सहानुभूतिपूर्वक बोला - क्यों नहीं , ये रंग की वजह से  हवा में नहीं उड़ता, इसके हवा में उड़ने की वजह ये है की इसके अन्दर क्या है |

यही  बात हमारे जीवन के लिए लागू होती है कि हमारे अन्दर क्या है और वो है हमारा मनोभाव या दृष्टिकोण| जो हमें ऊँचाइयों तक ले जाता है |

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया है ।

    आदरणीय बधाई ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा, प्रसन्नता मन में जो होती है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर कथा...
    बाहरी आवरण तो मात्र दिखावा है...

    आभार
    अनु

    उत्तर देंहटाएं


  4. हमारे अन्दर का हमारा मनोभाव या दृष्टिकोण ही हमें ऊँचाइयों तक ले जाता है |
    इस बोध कथा सहित आपके ब्लॉग की पिछली तीन-चार पोस्ट पढ़ी ...
    सबके लिए बधाई और आभार !


    उत्तर देंहटाएं
  5. हम्म बहुत खूब ... अंतस को ऊंचा उठाना जरूरी है ....
    सच कहा ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर प्रेरक कथा.....
    अंतस् में अब झाँक
    और स्वयम् को आँक

    उत्तर देंहटाएं

Thanks for Comment !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...